Big Breaking

राजद के प्रदेश महासचिव भाई अरुण कुमार एवं खुर्शीद आलम सिद्धकी एक संयुक्त प्रेस बयान जारी कर कहां कि नीतीश कुमार जब राजद गठबंधन से नाता तोड़कर भारतीय जनता पार्टी से गठबंधन कर सरकार बनाई थी तो उन्होंने कहा था कि केंद्र और राज्य में अगर एक ही दल की सरकार रहेगी तो राज्य का विकास दिन दुगना रात चौगुना होगा परंतु हुआ उल्टा जब से एनडीए की सरकार बिहार में बनी है बिहार का विकास ही मानो रुक गया हो प्रत्येक विषय में खींचतान चलती रहती है और इसका खामियाजा आम जनता भुगतती रह रही है यहां तक कि कोरोना जैसे वैश्विक महामारी में बिहार की गरीब जनता भूखे मर रही है तो दूसरी तरफ डबल इंजन की सरकार में नीतीश कुमार जी केंद्र से 75 लाख मीट्रिक टन केंद्र से अनाज मांगा जिसमें 30 लाख मैट्रिक टन गेहूं एवं 45 लाख मीट्रिक टन चावल मांगा गया परंतु केंद्र सरकार के द्वारा अनाज देने में आनाकानी की जा रही है बिहार की डबल इंजन वाली सरकार कि दोनों इंजन फेल हो गई केंद्र ने अनाज देने से साफ मना कर दिया वही बिहार के मामले में केंद्र सरकार के द्वारा बिहार के साथ दोहरा मापदंड अपनाने की प्रक्रिया लगातार जारी है बिहार से बाहर फंसे मजदूरों को एवं छात्रों को लाने का मामला हो या पीपीई कीट देने की मामला हो या कोरोना टेस्टिंग किट देने का मामला हो आपदा के समय केंद्रीय सहायता देने की मामला हो सभी मामले में केंद्र सरकार अपनी हाथ खड़ा कर दे रही है और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी अपना जिम्मेदारी सीधे केंद्र सरकार पर सौप कर इतिश्री कर देते हैं
राष्ट्रीय जनता दल का मानना है कि राज्य सरकार आपदाओं से निपटने में पूरी तरह से विफल साबित हो रही है चाहे वह चमकी बुखार का मामला हो चाहे पूरे पटना में बाढ़ का मामला हो या कोरो ना जैसे महामारी से निपटने का मामला हो या बाहर फंसे मजदूरों को एवं छात्रों को वापस पटना लाने का मामला हो सभी में राज्य सरकार पूरी तरह फेल है नीतीश कुमार एवं सुशील मोदी की जोड़ी बिहार को बर्बाद कर रही है जनता नीतीश कुमार एवं सुशील मोदी की सरकार से ऊब चुकी है और उन्हें सत्ता से हटाने के लिए बेकरार हो गई है।